27/05/2024 10:32 am

www.cnindia.in

Search
Close this search box.

become an author

27/05/2024 10:32 am

Search
Close this search box.

पंचायतों में नहीं पहुंचते सफाईकर्मी हीला हवाली से ग्राम पंचायतों में गंदगी अम्बार खबर का संज्ञान नहीं लिया सहायक विकास अधिकारी उमेश पटेल

कोठी, बाराबंकी। विकासखंड सिद्धौर क्षेत्र के अनेक ग्राम पंचायतों में सफाई कर्मचारी की धूलमूल रवैया से गर्मी के मौसम में कूड़े से पटी बजबजती नलियों में से इतनी तेज दुर्गंध आ रही है और मच्छर भी उत्पन्न हो गए हैं। सफाई कर्मी गांव में पहुंचने का नाम नहीं ले रहे हैं और चैराहों के होटल पर बैठकर चाय की चुस्की लेकर समय गुजारा करते हैं की कितनी जल्दी समय गुजर जाए और घर की ओर रवाना हो गंदगी के मामले में  किसी समय किसी दिन भी गांव में देखा जा सकता है। सहायक विकास अधिकारी  खबर को नहीं ले रहे संज्ञान में पूछने पर बातों में पत्रकार को घुमाते रहते हैं।जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि सिद्धौर ब्लॉक की अनेकों ग्राम पंचायतों में सफाई कर्मी की बाबू गिरी उजागर हो रही है। महीने बीत जाते हैं सफाई कर्मी सफाई करने गांव कभी नहीं जाता है। चैराहों की होटल पर बैठकर चाय की चुस्की लेकर समय गुजारा करता है। तो और इतना ही नहीं स्कूली छात्र गर्मी की छुट्टी मनाते हैं। लेकिन वहीं  कुछ ग्रामीणों लोगों कहना है कि मैं पहली बार देखा और सुना है की सफाई कर्मी भी गर्मी की छुट्टी मनाते हैं। गांवों की बजबजती व कूड़े से पटी नालियों में इतनी दुर्गंध और मच्छरों की भरमार उत्पन्न के कारण कभी भी बीमारी फैल सकती है।इसका शिकार ग्रामीणों को झेलना पड़ सकता है। साफ करने अगर सफाई कर्मी कभी-कभी जाता है। महीना में तो अगर कोई भी ग्रामीण सफाई कर्मी से पूछता है की रोज क्यों नहीं आते हो तो सफाई कर्मी बड़े ही तेजी से कहता है। कोई तुम लोगों द्वारा तनख्वाह नहीं दी जाती है और ना ही प्रधान देता है। जो भी हमारे अधिकारी कहेंगे उन्हीं के द्वारा काम करेंगे। जब हमको टाइम मिलेगा तभी गांव की सफाई करेंगे। रही बात सफाई करने की तो इतना बड़ा गांव अकेले कैसे हम साफ कर लेंगे। तना ही नहीं कुछ ग्राम पंचायत के सामुदायिक शौचालय में इतनी बड़ी-बड़ी झाड़ी उगी है कि लोग शौच जाने के लिए कतराते है।ं कहीं जहरीले जन्तु न डस ले और सफाई कर्मी की नजर इधर भी नहीं पड़ती है ना ही प्रधान द्वारा ध्यान दिया जाता है। जैसे ग्राम पंचायत कमालापुर, लाखूपुर, कुम्हरावा, इनायतपुर, सरायमीर, सुहावा, सरायपुरखू, विबियापुर थाना, अलुवामाऊ, असौरी, सदुल्लापुर, भिटौरा लखन, सेमरावा, इसरौलीसारी, अरुई, उचिटा, देवकली, रसूलाबाद विहारी लाल, चादूंपुर, सेहरिया, बीबीपुर, न्यामतपुर ,अचकामाऊ, जरगांवा, मदारपुर रोशन जमाखा, सैदनपुर, पडरावा, विबियापुरघाट ऐसे में और कई ग्राम पंचायतों का हाल है। कुछ ऐसे ग्राम पंचायतें खाली पड़ी है। जहां तक अभी सफाई कर्मी नहीं है। जेसे उस्मानपुर, कोठी, नसीरपुर अंसद्रा ऐसे में कई ग्राम पंचायतें जो अभी तक सफाई कर्मी नियुक्त नहीं है।जब हमारे संवाददाता धीरेंद्र सिंह पटेल ग्राम पंचायत की सफाई के बारे में जानकारी सिद्धौर सहायक विकास अधिकारी उमेश पटेल से  ली साहब मेरी खबर को संज्ञान में क्यों नहीं लिया गया तो उन्होंने जो दो टूक शब्दों में बताया सफाई कर्मी को सफाई के लिए भेजा गया है। खबर लिखने के बाद जब दोबारा पत्रकारों की टीम गई तो जस की तस ग्राम पंचायत में कूड़े से नाली पटी और बजबजाती नालियां दुर्गंध दे रही थी। सामुदायिक शौचालय पर बड़ी-बड़ी घास उगी मिली।
सहायक विकास अधिकारी अपना पल्ला झाड़ते हुए बताया की दोबारा गांव बता दीजिए कौन-कौन से गांव सफाई कर्मी नहीं पहुंच रहे हैं

cnindia
Author: cnindia

Leave a Comment

विज्ञापन

जरूर पढ़े

नवीनतम

Content Table