27/05/2024 3:31 am

www.cnindia.in

Search
Close this search box.

become an author

27/05/2024 3:31 am

Search
Close this search box.

जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षा मंत्री को दिया ज्ञापन 45 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन देकर बतायी अपनी परेशानियां

बाराबंकी। शुक्रवार को उत्तर प्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक के प्रांतीय अध्यक्ष सत्य प्रकाश मिश्र के निर्देश पर प्रांतीय महामंत्री अरुणेंद्र कुमार वर्मा ने संगठन के अन्य पदाधिकारियों के साथ बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री संदीप सिंह से मुलाकात कर उन्हें शिक्षकों एवं कर्मचारियों से संबंधित 45 सूत्रीय मांगपत्र सौंपा।संगठन के प्रांतीय महामंत्री अरुणेंद्र कुमार वर्मा ने बेसिक शिक्षा मंत्री को मांगपत्र माध्यम से बताया कि बेसिक शिक्षा परिषद के अधीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों एवं कर्मचारियों की विभिन्न ज्वलंत समस्याओं एवं मांगों का समाधान अति आवश्यक है ताकि शिक्षक कर्मचारी पूर्ण मनोयोग से कार्य कर सकें। संगठन ने कहा कि कई प्रदेशों में पुरानी पेंशन बहाल की जा चुकी है अतः उत्तर प्रदेश में भी 01अप्रैल 2004 के बाद नियुक्त सभी शिक्षकों और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना से आच्छादित किया जाये, प्रदेश सरकार के अन्य कर्मचारियों की भांति परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को भी निःशुल्क चिकित्सा सुविधा का लाभ दिया जाये,अन्य कर्मचारियों की भांति परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को भी अर्जित अवकाश प्रदान किए जायें ताकि वह अपने सामाजिक एवं पारिवारिक कर्त्तव्यों का निर्वहन कर सकें, परिषदीय शिक्षकों एवं कर्मचारियों को अर्द्ध दिवसीय आकस्मिक अवकाश प्रदान किए जायें। शिक्षकों के लिए अध्ययन की सदैव आवश्यकता पड़ती है अतः शिक्षा हित में प्रदेश के अन्य कर्मचारियों की भांति शिक्षकों को भी अध्ययन अवकाश की सुविधा पुनः प्रदान की जाए, मान्यता प्राप्त संगठनों के अध्यक्ष एवं मंत्री को दिए जाने वाले विशेष अवकाशों का अंकन मानव संपदा पोर्टल पर किया जाये, शिक्षकों की पदोन्नति एवं स्थानांतरण नियमित रूप से कराया जाये। परिषदीय शिक्षकों को भी माध्यमिक शिक्षकों की भांति शत प्रतिशत प्रोन्नति वेतनमान का लाभ दिया जाये। प्रत्येक परिषदीय विद्यालय में प्रधानाध्यापक का पद अनिवार्य रूप से सृजित किया जाये ताकि विद्यालय की व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित हो सके। टाइम एण्ड मोशन समाप्त करते हुए विद्यालयों में शिक्षण कार्य ग्रीष्मकाल में प्रातः 7 रू 30 से 12 रू 30 तक तथा शीतकाल में प्रातः 9 से 3 तक किया जाये। परिषदीय विद्यालयों की 5 किलोमीटर की परिधि में निजी विद्यालयों को मान्यता न दी जाये।
महिला शिक्षकों की सुरक्षा को देखते हुए समस्त प्रकार की बैठकें विद्यालय अवधि के अन्दर ही एक निश्चित कार्य दिवस में करायी जायें। शिक्षकों का पद सृजन 30 सितम्बर की छात्र संख्या के आधार पर किया जाये।राजकीय अवकाश अवधि में शिक्षकों से कार्य लिए जाने पर उन्हें प्रतिकर एवं अर्जित प्रदान किए जाएं, 69000 शिक्षक भर्ती वाले शिक्षकों के अंतर्जनपदीय स्थानान्तरण पर लगी रोक हटवाकर उनको शीघ्र कार्यमुक्त किया जाये।

cnindia
Author: cnindia

Leave a Comment

विज्ञापन

जरूर पढ़े

नवीनतम

Content Table