27/05/2024 6:00 pm

www.cnindia.in

Search
Close this search box.

become an author

27/05/2024 6:00 pm

Search
Close this search box.

भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था, चीन भी रह गया पीछे

नई दिल्ली : कृषि और वित्तीय क्षेत्र के बेहतर प्रदर्शन से देश की आर्थिक वृद्धि दर (जीडीपी) चालू वित्त वर्ष 2023-24 की अप्रैल-जून तिमाही में 7.8 प्रतिशत रही है. इसके साथ भारत ऊंची वृद्धि दर हासिल करने वाली अर्थव्यवस्था बना हुआ है. राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (एनएसओ) ने गुरुवार को जीडीपी के आंकड़े जारी किए. बीते वित्त वर्ष 2022-23 की समान तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 13.1 प्रतिशत रही थी.इसके साथ ही भारत प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से वृद्धि करने वाला देश बना हुआ है. चीन की जीडीपी वृद्धि दर अप्रैल-जून तिमाही में 6.3 प्रतिशत रही है. सकल घरेलू उत्पाद देश में निश्चित अवधि में उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं के कुल मूल्य को दर्शाता है. एनएसओ के आंकड़ों के अनुसार, कृषि क्षेत्र में सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में 3.5 प्रतिशत रहा, जो एक साल पहले 2022-23 की इसी तिमाही में 2.4 प्रतिशत था.
वित्तीय, रियल एस्टेट और पेशेवर सेवाओं का जीवीए जून, 2023 को समाप्त तिमाही में 12.2 प्रतिशत रहा जो एक साल पहले इसी तिमाही में 8.5 प्रतिशत था. हालांकि, विनिर्माण क्षेत्र में जीवीए समीक्षाधीन अवधि में घटकर 4.7 प्रतिशत रहा, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 6.1 प्रतिशत था. जीडीपी वृद्धि दर 2022-23 की जनवरी-मार्च तिमाही में 6.1 प्रतिशत तथा अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 4.5 प्रतिशत थी.एनएसओ ने बयान में कहा, ‘स्थिर मूल्य (2011-12) पर सकल घरेलू उत्पाद 2023-24 की पहली तिमाही में 40.37 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच जाने का अनुमान है, जो बीते वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 37.44 लाख करोड़ रुपये था. यह जून तिमाही में 7.8 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है, जो 2022-23 की पहली तिमाही में 13.1 प्रतिशत थी.’
मौजूदा मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाद चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 70.67 लाख करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले इसी अवधि में 65.42 लाख करोड़ रुपये था. यह आठ प्रतिशत वृद्धि है जो 2022-23 की पहली तिमाही में 27.7 प्रतिशत थी. आंकड़ों के अनुसार, खनन एवं उत्खनन क्षेत्र में उत्पादन (जीवीए) पहली तिमाही में घटकर 5.8 प्रतिशत रहा, जो एक एक साल पहले इसी तिमाही में 9.5 प्रतिशत था.बिजली, गैस, जलापूर्ति और अन्य जन केंद्रित उपयोगी सेवाओं में जीवीए 2.9 प्रतिशत रहा जो एक साल पहले की इसी तिमाही में 14.9 प्रतिशत था। निर्माण क्षेत्र में जीवीए आलोच्य तिमाही में 7.9 प्रतिशत रहा जो एक साल पहले इसी तिमाही में 16 प्रतिशत था. एनएसओ दूसरी तिमाही जुलाई-सितंबर का आंकड़ा 30 नवंबर, 2023 को जारी करेगा. आठ प्रमुख उद्योगों का सूचकांक (आईसीआई) जुलाई 2023 में पिछले साल के इसी महीने की तुलना में आठ प्रतिशत बढ़ गया. सरकार द्वारा गुरुवार को जारी अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, कोयला, इस्पात, प्राकृतिक गैस, सीमेंट, बिजली, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक और कच्चे तेल के उत्पादन में जुलाई में एक साल पहले के मुकाबले वृद्धि देखी गई. आठ प्रमुख उद्योगों में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में शामिल वस्तुओं का 40.27 प्रतिशत हिस्सा शामिल है. अप्रैल 2023 के लिए आठ प्रमुख उद्योगों के सूचकांक की अंतिम वृद्धि दर को 3.5 प्रतिशत से संशोधित कर 4.6 प्रतिशत कर दिया गया है. जुलाई 2023 में कोयला उत्पादन जुलाई 2022 की तुलना में 14.9 प्रतिशत बढ़ गया, कच्चे तेल का उत्पादन 2.1 प्रतिशत, प्राकृतिक गैस उत्पादन 8.9 प्रतिशत और पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पादन 3.6 प्रतिशत बढ़ गया.जुलाई 2023 में उर्वरक उत्पादन भी जुलाई 2022 की तुलना में 3.3 प्रतिशत बढ़ गया। इस्पात उत्पादन में 13.5 प्रतिशत, सीमेंट में 7.1 प्रतिशत और बिजली उत्पादन में 6.9 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई.

cnindia
Author: cnindia

Leave a Comment

विज्ञापन

जरूर पढ़े

नवीनतम

Content Table